सभी राष्ट्रीय पदाधिकारी एवं सैकड़ों विप्रजन एकत्रित होंगे जयपुर में / विप्र फाउण्डेशन के संकल्पित कार्यों का आगाज 24 से

Posted by Vinay N. Joshi on October 20th, 2010

Vipra Foundation Logo

Vipra Foundation Logo


बीकानेर, 20 अक्टूबर। गत वर्ष कोलकाता में देशभर के ब्राह्मणों को एकत्रित कर त्रिदिवसीय कार्यक्रम ‘विप्र महाकुंभ’ में विभिन्न विषयों-मुद्दों पर विचार-मंथनों के बाद गठित हुए ‘विप्र फाउण्डेशन’ अपनी जनहितार्थ कार्ययोजनाओं को मूर्त रुप देते हुए राजस्थान की राजधानी जयपुर से इसका श्रीगणेश कर रहा है।
Report By Journalist Rajeev Joshi

Report By Journalist Rajeev Joshi

आगामी 24 अक्टूबर, रविवार को समय के अभूतपूर्व जनसमर्थन एवं स्नोहाशीष से अभिषिक्त फाउण्डेशन इस दिन 11 बजे जयपुर के विद्याधरनगर स्थित श्री माहेश्वरी समाज जनोपयोगी भवन उत्सव में एक भव्य समारोह में संकल्पित सेवा कार्यों का शुभारम्भ राजस्थान की पवित्र धरा से होगा। फाउण्डेशन के प्रभारी सचिव बीकानेर के यंग एण्ड डायनेमिक पर्सनेलिटी कमल कल्ला ने ‘छोटीकाशी डॉट कॉम’ को बताया कि इस अवसरपर फाउण्डेशन के मुख्य संरक्षक रतन शर्मा, अध्यक्ष संजय कुमार शर्मा, संयोजक सुशील ओझा, राष्ट्रीय प्रतिनिधि विनोद अमन, एनजी उपाध्याय, प्रभारी उपाध्यक्ष भागीरथ शर्मा, महासचिव अशोक पारीक, कोषाध्यक्ष पशुपति कुमार शर्मा सहित प्रदेश ही नहीं देशभर के सैकड़ों विप्रजन शिरकत करेंगे। शिक्षा, चिकित्सा स्वास्थ्य व समाज में व्याप्त अनेक कुरीतियों तथा ‘वैवाहिक गठबन्धनों’ सहित होनहार युवा पीढ़ी के उत्थान बाबत् फाउण्डेशन समर्पित दृष्टिक़ोण से प्रयास करेगा। फाउण्डेशन के द्वितीय विप्र महाकुंभ की जानकारी देते हुए कल्ला ने बताया कि इस वर्ष के अंत में गुवाहाटी में होने वाले विप्रों के महासम्मेलन की तैयारियां भी सुचारु है। कल्ला ने रविवार के कार्यक्रम में अधिकाधिक विप्रों के पहुंचने के आह्वान के साथ कहा कि बीकानेर से रेल व बसों द्वारा अनेक विप्र बंधु जयपुर पहुंचेंगे।
—————————————————————————————————
Bikaner News, Bikaner Hindi News, Journalist Rajeev Joshi, Kamal Kalla, Vipra Foundation, Vipra Mahakumbh, Kolkata, Jaipur

Tags: , , , , , , ,

Leave a Reply

Congress Websity Sai Education
  • Categories

  • Archives

  • Pages

  • Calender

    April 2014
    M T W T F S S
    « Mar    
     123456
    78910111213
    14151617181920
    21222324252627
    282930