अलग ही पहचान और संस्कृति है पंजाबी समाज की, पंजाबी एकता को इकट्ठा करने का समय : मेहता

CK NEWS/CHHOTIKASHI बीकानेर, 13 अप्रैल। राष्ट्रीय पंजाबी महासभा (पंजीकृत) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व हरियाणा के पूर्व राज्य सूचना आयुक्त अशोक मेहता ने कहा कि पंजाबी समाज एक मार्शल कौम है जिसकी अपनी एक अलग ही पहचान और अपनी संस्कृति है। समाज की अपनी अलग पहचान के चलते राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री तक पंजाबी समाज के लोग पहुंचे है साथ ही साथ बॉलीवुड से लेकर विभिन्न क्षेत्रों में समाज ने एक मुकाम पाया है। अब समय आ गया है पंजाबी एकता को इकट्ठा करना। मेहता रविंद्र रंगमंच पर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इस अवसर पर महासभा के प्रदेश संयोजक अरविंद मिड्ढा, अनिल पाहूजा सहित अनेक उपस्थित थे। मेहता ने कहा कि पंजाबी कौम एक मार्शल कौम है, जिसने आजादी के समय देश, प्रदेश-संसार को बहुत कुछ दिया। यही एक ऐसी कौम है जिसने देश के विकास मेें भी बहुत बड़ा योगदान दिया। उन्होंने कहा कि पंजाबी अकेली बिरादरी नहीं है इस कौम में 36 बिरादरी के लोग है जो देश और धर्म की खातिर पाटेशन के वक्त 'अपना घर' छोड़कर हिन्दुस्तान आ गए। पंजाबी एक कल्चर है। समाज ने काफी मेहनत की है। मेहता ने भारत सरकार से मांग की कि पाटेशन के वक्त शहीद हुए लोगों की श्रद्धा के लिए, पंजाबियत को जिंदा रखने के लिए दिल्ली एनसीआर इलाके में स्मारक बनाया जाए ताकि भारत में कोई भी वीवीआईपी आता है तो राजघाट जाता है तो वह उस स्मारक भी जाए और हमारी कौम के बारे में उन्हें जानकारी मिले। उन्होंने पंजाबी एकता को मजबूती प्रदान करने, राजनैतिक क्षेत्र में अपनी पकड़ मजबूत करने पर जोर देते हुए कहा कि अब समय आ गया है जल्द ही सभी मिलजुल कर एकत्रित हो जाएं।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow