भगवान में भक्ति एवं दुनिया में दिमाग लगाकर सर्वोत्तम बनें : डॉ वसंतविजयजी म.सा. 

भगवान में भक्ति एवं दुनिया में दिमाग लगाकर सर्वोत्तम बनें : डॉ वसंतविजयजी म.सा. 

कृष्णगिरी तीर्थधाम में राष्ट्रसंतश्रीजी का संदेश ; कॉरपोरेट लाइफ नहीं सक्सेसफुल लाइफ जीएं

पार्श्वप्रभु के मोक्ष कल्याणक दिवस पर रथयात्रा व 2895 लड्डुओं का भोग शुक्रवार को

कृष्णगिरी। श्रीपार्श्व पद्मावती शक्ति पीठ तीर्थधाम कृष्णगिरी में श्रावण मास विशेष 29 दिवसीय ज्ञान, भक्ति, आराधना के तहत श्रीमद् देवीभागवत कथा महापुराण वाचन एवं यज्ञ महोत्सव के 20वें दिन सत्संग की महिमा, आसक्ति के प्रसंग व कर्म गति का वर्णन हुआ। शक्तिपीठाधीपति, राष्ट्रसंत, सर्वधर्म दिवाकर परम पूज्य गुरुदेवश्रीजी डॉ वसंतविजयजी महाराज साहेब ने इस दौरान सत्संग को विस्तार से परिभाषित करते हुए गुरु की महिमा पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि संतो के चरणों का संग व्यक्ति से अच्छे काम कराता है। आसक्ति से मुक्त होकर दुनिया पर राज करने में सक्षम होने की जानकारी भी उन्होंने दी। तीन प्रकार के कर्म क्रमशः संचित, प्रारब्ध एवं वर्तमान की व्याख्या करते हुए राष्ट्रसंत श्रीजी ने देवी भागवतजी को विज्ञान सम्मत बताया। कर्म क्षेत्र में मनुष्य को अपने आदर्श व्यक्तित्व को देख कर आगे बढ़ने की प्रेरणादायी सीख देते हुए उन्होंने कहा कि आदर्श ज्ञान रखना व बनाना आवश्यक है, व्यक्ति के ऐसे विचार चिंतन से उनका सामर्थ्य हमारे अंदर आता है। नशावृत्ति, आलस्य, फूहड़ मनोरंजन तथा कुरीतियों में जकड़ी युवा पीढ़ी के नाम अपने वक्तव्य–संदेश में राष्ट्रसंतश्रीजी ने कहा कि इसे कॉरपोरेट लाईफ का नाम दिया गया है, जबकि सक्सेसफुल लाईफ जीने की आवश्यकता है।‌ उन्होंने कहा कि भगवान में ध्यान, मन अर्थात भक्ति लगाओ तथा संसार में दिमाग लगाओ। आज का भटका हुआ मनुष्य दिमाग भगवान में और मन संसार में लगा रहा है यह तर्क–कुतर्क सर्वथा गलत है। वे बोले, जगतजननी ममतामयी मां में दिल लगाएं और संसार में दिमाग लगाएं तो फिर किसी प्रकार का दुख नहीं सताएगा। उन्होंने कहा कि दुनिया को देख कर चलने की बजाय व्यक्ति की अपनी क्रिया का कारण होना चाहिए। शुभ सोच व शुभ कार्य जीवन में शुभ ही करेगा। इस मौके पर देवी भागवतजी की आरती चेन्नई के श्रद्धालुभक्त असुमति बहन शांतिलाल मुथा परिवार ने की व हवन यज्ञ का लाभ लिया। दौराने कार्यक्रम पूज्य गुरुदेवजी ने तीर्थधाम के सेवाभावी कर्मचारियों का नगद राशि भेंट कर सम्मान किया। हवन यज्ञ में आहूतियों का क्रम जारी रहा। कार्यक्रम का संचालन विनोद आचार्य ने किया। संगीतकार रामलाल घाणेराव एवं महेंद्र वाणीगोता ने संगीतमय भक्ति प्रस्तुत की। पूज्य गुरुदेव के अधिकृत वेरीफाइड यूट्यूब चैनल थॉट योगा पर कार्यक्रम का सीधा प्रसारण किया गया। 

पार्श्वप्रभु के मोक्ष कल्याणक अवसर पर रथयात्रा व 2895 लड्डुओं का भोग शुक्रवार को 

कृष्णगिरी तीर्थधाम में श्री पार्श्वनाथ भगवान मोक्ष कल्याणक आराधना एवं श्रावण शुक्रवार व्रत पूजा उत्सव 5 अगस्त को भक्तिमय रूप से उल्लास के साथ मनाया जाएगा। राष्ट्रसंत परम पूज्य गुरुदेवजी डॉ वसंतविजयजी महाराज साहेब के पावन सान्निध्य में शुक्रवार को प्रातः 10 बजे जप प्रारंभ होगा। इसके बाद दोपहर 12 बजे पार्श्वप्रभु मोक्ष रथ यात्रा का आयोजन होगा। दोपहर 1:30 बजे मोक्ष कल्याणक निमित्त 2895 लड्डू पार्श्वनाथ परमात्मा को अर्पण होंगे। 2 बजे से देवी भागवत कथा व 4 बजे से पद्मावती–भैरवदेव यज्ञ तथा रात्रि 8 बजे मोक्ष कल्याणक महाआरती होगी। पूज्य गुरुदेवजी की निश्रा में इस उत्सव पर श्रद्धालु भक्तजन सपरिवार कृष्णगिरी पहुंचकर जीवन को खुशियों के साथ धन्य बना सकते हैं।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow