CM गहलोत ने किया बीकानेर की 26 नई इंदिरा रसोइयों का शुभारंभ, लोगों को बताया सेवाभावी और गौसेवी

CM गहलोत ने किया बीकानेर की 26 नई इंदिरा रसोइयों का शुभारंभ, लोगों को बताया सेवाभावी और गौसेवी

बीकानेर, 18 सितंबर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को जोधपुर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान प्रदेश की 512 नई इंदिरा रसोइयों का शुभारंभ किया। इनमें बीकानेर जिले की 26 इंदिरा रसोईयां भी सम्मिलित हैं। जिला स्तरीय मुख्य कार्यक्रम रानी बाजार औद्योगिक क्षेत्र में प्रारंभ नए इंदिरा रसोई परिसर में हुआ। जहां डॉ. भीमराव अंबेडकर फाउंडेशन (अंबेडकर पीठ) के महानिदेशक मदन गोपाल मेघवाल, संभागीय आयुक्त नीरज के. पवन, जिला कलेक्टर भगवती प्रसाद कलाल, यशपाल गहलोत, जियाउर रहमान, नगर निगम आयुक्त गोपाल राम बिरडा, अतिरिक्त जिला कलेक्टर (नगर) पंकज शर्मा, उपमहापौर राजेंद्र पंवार, पार्षद निर्मला चांवरिया सहित अन्य कार्मिक और स्थानीय नागरिक मौजूद रहे।
बीकानेर के प्रतिनिधियों से वार्ता करते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि बीकानेर के लोग प्रारंभ से ही सेवाभावी हैं। यहां संभाग के सबसे बड़े पीबीएम अस्पताल में वर्षों से मरीजों और उनके परिजनों के लिए रियायती दर पर भोजन की सेवा संचालित की जा रही है। उन्होंने बताया कि उन्होंने एक बार इसका अवलोकन भी किया हुआ है। मुख्यमंत्री ने इस व्यवस्था को सराहा तथा कहा कि बीकानेर की सेवा भाव की इस परंपरा को आगे बढ़ाएं और इंदिरा रसोई में भोजन के लिए आने वाले लोगों को मेहमानों की तरह खाना खिलाएं।मुख्यमंत्री ने कहा कि बीकानेर के लोग गौ भक्त हैं। अकाल और सूखे के दौरान जब उन्होंने बीकानेर का दौरा किया, तब देखा कि बीकानेर के लोगों ने चारा-पानी की भरपूर व्यवस्था की है।

जिला कलेक्टर भगवती प्रसाद कलाल ने जिले की इंदिरा रसोइयों की व्यवस्था का फीडबैक दिया। उन्होंने बताया कि अब तक जिले में 13 इंदिरा रसोई संचालित थी। जिनके माध्यम से अब तक 48.50 लाख थाली भोजन 8 रुपए के हिसाब से उपलब्ध करवाया गया है। उन्होंने बताया कि अब 26 नए इंदिरा रसोई की शुरुआत की गई है। इनमें 20 नई रसोईयां नगर निगम क्षेत्र की हैं। उन्होंने बताया कि अधिकारियों द्वारा इन रसोइयों का नियमित निरीक्षण किया जाता है तथा यहां भोजन की गुणवत्ता बरकरार रहे यह सुनिश्चित की जाती है। मुख्यमंत्री ने व्यवस्थाओं के फीडबैक की निरंतरता बनाए रखने के निर्देश दिए।
गहलोत ने बीकानेर में लगभग 1 वर्ष से इंदिरा रसोई के माध्यम से सुबह-शाम भोजन करने वाली विद्यार्थी चेतना सरगरा से भी संवाद किया। चेतना ने बताया कि वह लगभग डेढ़ वर्ष से अपने 25 साथियों के साथ यहां आरएएस की तैयारी कर रही है। इनमें से लगभग 12 विद्यार्थी प्रतिदिन इंदिरा रसोई के माध्यम से भोजन करते हैं। चेतना ने रसोई की व्यवस्था को अच्छा बताया तथा कहा कि राज्य सरकार द्वारा विद्यार्थियों के लिए की गई यह व्यवस्था बेहतरीन है। उसने इसके लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया। इस दौरान रसोई संचालक श्रवण कुमार ने भी मुख्यमंत्री को व्यवस्थाओं के बारे में बताया। इसके पश्चात संभागीय आयुक्त एवं जिला कलेक्टर सहित सभी अतिथियों ने इंदिरा रसोई द्वारा बनाया गया भोजन किया। इसके पश्चात जिला कलेक्टर ने रंग-बिरंगे गुब्बारे हवा में छोड़कर इंदिरा रसोई का विधिवत शुभारंभ किया तथा इसके प्रचार रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow