स्व के साथ समाज व राष्ट्रहित की प्रेरणा देता है कृष्णगिरी तीर्थधाम : राष्ट्रसंत डॉ वसंतविजयजी म.सा.

स्व के साथ समाज व राष्ट्रहित की प्रेरणा देता है कृष्णगिरी तीर्थधाम : राष्ट्रसंत डॉ वसंतविजयजी म.सा.

सर्वधर्म दिवाकरजी बोले ; धन, प्रशंसा, प्यार का क्रॉस वेंटिलेशन करें, निश्चित स्वत: लौटेगा

पूज्य गुरुदेवजी ने मंत्र शक्तिपात से प्रदान की गुरु ऊर्जा, दूसरों के प्रति अपने दिल में आने वाले बुरे खयालात बदलने की दी प्रेरणादायी सीख..

कृष्णगिरी। कृष्णगिरी शक्ति पीठाधीपति, राष्ट्रसंत, यतिवर्य डॉ. वसंतविजयजी म.सा. ने रविवार को कहा कि मनुष्य को अपने-अपने कर्मों का फल मिलता ही है। भले ही इस जन्म में कर्मों का फल भोगना नहीं पड़े लेकिन कर्मों का फल जरुर मिलता है। श्रीपार्श्व पद्मावती शक्तिपीठ तीर्थ धाम में श्रीमद् देवी भागवत महापुराण एवं हवन महा यज्ञ महोत्सव में 24वें दिन स्व के साथ-साथ समाज एवं राष्ट्रहित में सर्वोत्तम दान धर्म की प्रेरणा देते हुए राष्ट्रसंतजी ने कहा कि भगवान के चरण में रहने वाला हर व्यक्ति भागवत है। इस दौरान पूज्य गुरुदेव ने उपस्थित श्रद्धालुओं की दुख, पीड़ा मिटाने हेतु मंत्र शक्तिपात से आशीर्वाद स्वरुप गुरु ऊर्जा प्रदान की। इस दौरान सर्वधर्म दिवाकर संतश्रीजी ने क्रॉस वेंटिलेशन की व्याख्या की। उन्होंने धर्म, आध्यात्म के साथ-साथ विज्ञान के एक तथ्य को विस्तार से परिभाषित करते हुए कहा कि धन, यश, प्रशंसा, प्रेम व रिश्तों का प्यार ऐसी सकारात्मक ऊर्जा है, जिसे दूसरों में बांटने पर वह स्वत: लौटकर पुनः प्राप्त होगा। पूज्य गुरुदेव बोले कि संसार में लोग हजार अच्छाइयों की चाहत तो रखते हैं मगर स्वयं ने जीवन में किसके लिए कितनी अच्छाई की इसकी टिप्स पर गिनती वह नहीं बता सकता है। कृष्णगिरी तीर्थ धाम में श्रद्धा–भक्ति के साथ आए श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए डॉ वसंतविजयजी महाराज साहेब ने कहा कि संस्कार, पवित्रता, सद्गुण, श्रेष्ठता, दानधर्म, चरित्र व राष्ट्रप्रेम ही यहां मिलेगा। इस मौके पर साधना के शिखर पुरुष पूज्य गुरुदेवजी ने करोड़ देवी भागवत के समान देवी मां पद्मावती के 108 नाम की संगीतमय स्तुति भी अनंत कृपा करके प्रदान की व उपस्थित भक्तजनों से भाव पुष्प अर्पण करवाए। अनेक प्रकार के रोग मिटाने, समृद्धि को आकर्षित कराने वाली चिन्ह मुद्रा, प्राण मुद्रा  व मृग मुद्रा के अभ्यास की जानकारी भी दी। परम गुरु भक्त अशोक कल्पना रामपुरिया परिवार ऊटी वालों ने देवी भागवतजी की आरती की एवं हवन यज्ञ का लाभ लिया। कार्यक्रम में सर्वधर्म, समाज के देश और दुनिया से आए अनेक गुरु भक्तों ने भक्ति से प्राप्त हुए अपने चमत्कारिक प्रसंग अनुभवों को साझा किया व पूज्य गुरुदेव का वंदन के साथ आभार व्यक्त किया। ज्योतिषाचार्य संतश्री वज्रतिलक्जी आदि ठाना–दो सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु भक्तजन मौजूद रहे। कार्यक्रम का सीधा प्रसारण पूज्य गुरुदेव श्रीजी के अधिकृत वेरीफाइड यूट्यूब चैनल थॉट योगा पर किया गया। डॉ संकेश छाजेड़ ने बताया कि आगामी 12 अगस्त को आयोजन की पूर्णाहुति एवं रक्षा बंधन पर्व हर्षोल्लास से मनाया जाएगा। तीर्थ धाम द्वारा मां के चरणों की चांदी की राखी बहनें अपने भाईयो के बांधेगी, बहनों को उपहार व भोग प्रसाद भी प्रदान किया जाएगा। इसी दिन मां पद्मावती को 1008 प्रकार के नैवेद्य, व्यंजन भोग प्रसाद अर्पण होगा।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow