नारी संस्कृति व संस्कारों का सृजन करती है : साध्वी आत्मादर्शनाश्रीजी 

नारी संस्कृति व संस्कारों का सृजन करती है : साध्वी आत्मादर्शनाश्रीजी 

अभा.श्रीराजेन्द्र जैन महिला परिषद के दक्षिण प्रांतीय सम्मेलन में प्रेमाबहन गांधीमुथा राष्ट्रीय अध्यक्ष नियुक्त

बेंगलूरु। श्री सीमंधर स्वामी राजेन्द्र सूरि जैन संघ मामूलपेट के तत्वावधान में यहां किल्लारी रोड स्थित गुरु राजेन्द्र भवन में अखिल भारतीय श्री राजेन्द्र जैन महिला परिषद का दक्षिण प्रांतीय सम्मेलन में साध्वीश्री आत्मादर्शनाश्रीजी म.सा. की निश्रा में सम्पन्न हुआ। इस दौरान उन्होंने कहा कि महिला परिषद की स्थापना सन 1974 में जावरा (म.प्र) में आचार्यदेव जयंतसेनसुरीश्वरजी म.सा. की निश्रा में हुई थी। उस समय महिला परिषद की संस्थापक अध्यक्ष कोकीला भारतीय नियुक्त की गई। आज परिषद पूरे देशभर में क्रियाशील है, बेंगलूरु के लिए विशेष गौरव की बात है। इस बार झाबुआ में हुए अधिवेशन में प्रेमा बहन गांधीमुथा को नियुक्त किया गया है। साध्वीजी ने सम्मेलन में आगे कहा कि सामाजिक दायित्व में महिला परिषद की विशेष भूमिका है। नारी संस्कृति व संस्कारों का सृजन करती है। धार्मिक शिक्षण के गुणों के कारण आज हमारी भावी पीढ़ी के अंतर्मन में आद्यात्मिक, धार्मिक मूल्यों की चेतना जागृत हुई है। आज नारी अति व्यस्त है, वह प्रतिदिन नई–नई चीजें सीख कर अपना शारीरिक और मानसिक विकास करने मे जुटी है। आज की महिला जागरूक है, जिज्ञासु है, उसने अर्जित किया वह ज्यादातर मुद्दों पर अपनी राय प्रकट करती है। साध्वीजी के मंगलाचरण से शुरु हुए कार्यक्रम में संघ के पदाधिकारियों, दक्षिण प्रांतीय पदाधिकारियों, बेंगलूरु
शाखा पदाधिकारियों द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर परमात्मा एवं गुरुदेव के फोटो पर माल्यार्पण किया गया। इस अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रेमाबहन ने कहा गुरुदेव एवं पुण्य सम्राट के आशीर्वाद से परिषद के चार उद्देश्य पर कार्य करूँगी। दक्षिण प्रांतीय महिला अध्यक्ष उषा वोरा ने स्वागत किया एवं महामंत्री मिंटू अम्बानी ने दक्षिण शाखाओं की गतिविधियों की जानकारी दी। राष्ट्रीय संरक्षक प्रकाश हिराणी ने महिला परिषद के 50 वर्षों की जानकारी दी एवं भविष्य कार्य योजना की रूपरेखा बताई। 
सभा में श्री सीमंधर स्वामी राजेन्द्रसुरी संघ अध्यक्ष मेघराज भंसाली, श्री मुनिसुव्रत राजेन्द्र जैन संघ के अध्यक्ष भवरलाल कटारिया, श्री राजेन्द्रसूरी गुरु मंदिर वीवी.पुरम के अध्यक्ष नेमीचंद वेदमुथा, अ.भा.श्री त्रिस्तुतिक संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओसी.जैन, संघ सचिव मांगीलाल वेदमुथा, बेंगलूरु शाखा अध्यक्ष डूंगरमल चोपड़ा, महिला परिषद की राष्ट्रीय महामंत्री संगीता पोरवाल, संगठन मंत्री बबिता सालेचा, बेंगलूरु शाखा अध्यक्ष मधु ओस्तवाल एवं सचिव निशा चोपड़ा आदि ने अपने विचार प्रकट किए। इस अवसर पर दक्षिण प्रांतीय अध्यक्ष बाबुलाल सवाणी, धीरज भंडारी, मांगीलाल गांधीमुथा, हेमराज मोदी, तिलोक भंडारी, जयंतीलाल बालर, सचिव नेमीचंद संघवी, सहमंत्री दिलीप कांकरिया, कोषाध्यक्ष रमेश क्षत्रियवोरा, रिखब सोलंकी, राजेश मुथा आदि उपस्थित रहे। इस सम्मेलन में दक्षिण भारत की बेंगलूरु, मैसूरु, हुब्बली, नेल्लोर, वेल्लोर, इरोड, सेलम, त्रिची, कोलार, विजापुर शाखाओं की उपस्थिति रही। इस सम्मेलन में सभी सदस्यों का स्वागत तिलक और माल्यार्पण से आशना सोलंकी द्वारा किया गया। कमलेश एंड पार्टी द्वारा संगीत का समा बाँधा गया। संचालन मीठालाल पावेचा ने  किया।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow